Politics

रमेश बैस को राज्यपाल बनाए जाने का क्या  असर होगा छत्तीसगढ़ की राजनीति में

रमेश बैस को राज्यपाल बनाए जाने का क्या असर होगा छत्तीसगढ़ की राजनीति में

Date : 21-Jul-2019
रायपुर 21 जुलाई । रमेश बैस 7 बार रायपुर से सांसद रह चुके हैं. इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री की जिम्मदारी भी इन्होने संभाली है. रमेश बैस 16वीं लोक सभा के सदस्य रह चुके हैं. बैस 1978 में रायपुर नगर निगम के लिए चुने गए थे. 1980 से 1984 तक मध्यप्रदेश विधान सभा के सदस्य भी थे. वे 1989 में रायपुर, मध्यप्रदेश से 9वीं लोक सभा के लिए चुने गए थे और 11वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं, 15वीं और 16वीं लोक सभा में फिर से निर्वाचित हुए थे. उन्होंने भारत सरकार में केंद्रीय मंत्री के रूप में भी कार्य किया ! बता दें कि रायपुर लोकसभा सीट पर पिछले छह चुनावों से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का ही कब्जा रहा है.  सांसद रमेश बैस यहां से 7 बार जीत चुके हैं. बैस को केवल 1991 में हजार से भी कम वोटो से तकनीकी कारणों से हार का सामना करना पड़ा था और 1996 से 2014 तक लगातार छह बार जीत दर्ज की है ! छत्तीसगढ़ की राजनीति में सांसद रमेश बैस ने 2014 में अपना पिछला लोकसभा चुनाव जितने के बाद कहा था कि, ‘हमारे सामने आवाज उठाने वाला कोई नहीं है. अब बोलने का मौका आ गया है, हमें एक होकर बोलना होगा! जुलाई 2014 में प्रदेश कुर्मी समाज के प्रदेश स्तरीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए उस दौरान उन्होंने यह भी कहा था कि,छत्तीसगढ़ आदिवासी बहुल नहीं, बल्कि ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) बहुल राज्य है. लेकिन लंबे समय से गुमराह किया जाता रहा है कि छत्तीसगढ़ आदिवासी बहुल राज्य है ! उन्होंने कई बार इसी तरह के अपने राजनितिक बयानों से अपनी ही पार्टी की पूर्ववर्ती रमन सरकार के लिए छत्तीसगढ़ में असमंजस की स्थिति पैदा की ! पिछली सरकार में उनकी वरिष्ठता की कई   बार अनदेखी की रमेश बैस के राज्यपाल बनाए जाने का असर छतीसगढ़ के राजनीति में दिखेगा  छत्तीसगढ़ में ओबीसी वर्ग की संख्या 50 प्रतिशत से ज्यादा है, कुर्मी समाज के रमेश बैस छत्तीसगढ़ की राजनीति में बहुत बड़ा ओबीसी  चेहरा है ! उन्हें राज्यपाल बनाए जाने का सार्थक सन्देश स्वाभाविक रूप से भाजपा के पक्ष में जाएगा ! चूंकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी कुर्मी समाज से ही प्रतिनिधित्व करते हैं, जाहिर है रमेश बैस को राज्यपाल बनाने के दौरान इस बात का भी विशेष ध्यान रखा गया होगा !

Related Topics