Sports

सेरेना विलियम्स की ताक़त का क्या राज है?

सेरेना विलियम्स की ताक़त का क्या राज है?

Date : 16-Sep-2019
एकल ख़िताब में अपना 24वां ग्रैंड स्लैम जीतने के मुकाबले यूएस ओपेन 2019 में सेरेना विलियम्स का सफ़र कई मायनों में बहुत यादगार रहा है. ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज महिला खिलाड़ी मार्गरेट कोर्ट स्मिथ के 24वें ग्रैंड स्लैम ख़िताब के साथ आज सेरेना बराबरी पर खड़ी हैं. टेनिस के शीर्ष पर अपनी ताक़त को बरक़रार रखना दिलचस्प हैः ये वही टूर्नामेंट है जिसमें इस अमरीकी खिलाड़ी ने 20 साल पहले अपना पहला ग्रैंड स्लैम एकल खिताब जीता था. साल 1968 में इस खेल के व्यवसायीकरण के बाद से अब तक कोई भी पुरुष या महिला खिलाड़ी ऐसा नहीं है जिसने ओपन में लगातार ऐसा प्रदर्शन किया हो. उम्र की ढलान पर खेल का शिखर 37 साल और 11 महीने की उम्र में सेरेना विलियम्स ने टेनिस कैलेंडर के चार मुख्य टूर्नामेंटों (ऑस्ट्रेलियाई ओपन, फ्रेंच ओपन, विम्बलडन और यूएस ओपन) में से एक को जीता. और इस तरह वो ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज केन रोज़वाल के क़रीब पहुंच गई हैं जिन्होंने 37 साल दो महीने की उम्र में 1972 में ऑस्ट्रेलियाई ओपन जीता था. तारीफ़ की बात है कि किस तरह उन्होंने सितम्बर 1999 में मार्टिना हिंगिस पर न्यूयॉर्क में पहली जीत के बाद अपने सफ़र को आगे बढ़ाया. 1999 से 2010 तक उन्होंने 13 ग्रैंड स्लैम जीते. अगले 10 ग्रैंड स्लैम 2012 से 2017 के बीच उनके खाते में आए जब वो अपनी ज़िन्दगी के तीसरे दशक में दाखिल हो चुकी थीं. साल 2017 के अंत में जारी डब्लूटीए रैंकिंग में सेरेना फ़ेहरिस्त में शामिल 100 खिलाड़ियों में से उन तीन खिलाड़ियों में से एक थीं जो 30 साल के ऊपर के थे. सेरेना के ख़िलाफ़ कोर्ट में उतरने वाले खिलाड़ियों की औसत उम्र 25 साल है. एक नई शुरुआत गुरुवार को यूक्रेन की खिलाड़ी एलीना स्वेतोलिना को हराने के बाद सेरेना ने कहा, मैं इन अंकों के बारे में नहीं सोचती. मैं यहां जितना अच्छा हो सके वैसा प्रदर्शन करने आई हूं. 20 साल से यहां हूं और अब भी खेल रही हूं. पर उन्होंने ये दूसरी पारी की सफलता कैसे पाई? इसके पीछे दो मुख्य नाम हैं, पैट्रिक मोराटोग्लो और मेकी शिल्स्टन. पहला नाम वो फ़्रांसिसी कोच हैं जिन्हें सेरेना ने 2012 में फ्रेंच ओपन में पहली बार शुरुआती राउंड में ही हार के बाद चुना था. इस कोच ने इस अमरीकी खिलाड़ी के खेल को संवारने में मदद की. शिल्स्टन निजी ट्रेनर हैं जिन्होंने पहले भी सेरेना के साथ काम किया था. पर 2011 में जब सेरेना अपनी खराब सेहत से जूझ रही थीं तब शिल्स्टन ने उन्हें नयी दिशा दी. ये वही साल था जब सेरेना अपने फेफड़ों में एक खतरनाक क्लॉट और पैर में लगी चोट से जूझ रही थीं. मां बनना इस बीच सेरेना मां भी बनीं. इसका ये मतलब बिलकुल नहीं है कि सेरेना अविजित ही रहीं. जनवरी 2017 में ऑस्ट्रेलियाई खिताब जीतने के बाद सेरेना ने लगातार अगले तीन ग्रैंड स्लैम के फाइनल हारे. नाओमी ओसाका से 2018 में यूएस ओपन में हार के बाद अंपायर कार्लोस रामोस पर गुस्सा निकालने और आगाह किये जाने ने उस मैच को एक अलग महत्त्व दे दिया. हालांकि, सेरेना 2019 में विम्बलडन फ़ाइनल में पहुंचीं लेकिन उन्हें इस साल एक टूर्नामेंट जीतना अभी भी बाकी है. आज वो विश्व रैंकिंग में आठवें स्थान पर हैं जो किसी प्लेयर के लिए काफी सम्मानजनक स्थान है, पर सेरेना के लिहाज़ से ये कम ही है. इस अमरीकी खिलाड़ी ने जब दो साल पहले ऑस्ट्रेलियाई ओपन जीता था तब वो दो माह की गर्भवती थीं जिसके बाद वो आठ माह तक अपनी बेटी अलेक्सिस ओलम्पिया ओहनियन जूनियर के जन्म के कारण खेल से दूर रहीं. 2018 में सेरेना ने वापसी की और फ्रेंच ओपन में पहला राउंड खेला. उस वक़्त सेरेना विश्व रैंकिंग में 451वें स्थान पर थीं. ये यात्रा किसी कविता से कम नहीं है, जिसमें वो न्यूयॉर्क में अपने 24वें खिताब तक पहुंचीं. साथ ही उन्होंने अपने पहले खिताब के ठीक 20 साल पूरे किए. ये फ्लशिंग मेडोस कॉम्प्लेक्स ही 2018 के उस लम्हे का साक्षी रहा जब अपने प्रशंसकों के सामने उनकी इमेज किसी खलनायिका सी हो गई थी. क्या ये ही वो जगह बनेगी जहाँ अपने 25वें खिताब की जीत के लिए सेरेना झुककर सबका अभिवादन करेंगी! कुछ कहा नहीं जा सकता, पर यकीनन अगले कुछ दिन उनके ज़ेहन में ये सब ज़रूर चलेगा.

Related Topics