Sports

भारतीय क्रिकेट टीम की ऑफिशियल जर्सी पर ग्लोबल स्मार्टफोन कंपनी OPPO की जगह एक नया ब्रांड देखने को मिल सकता है

भारतीय क्रिकेट टीम की ऑफिशियल जर्सी पर ग्लोबल स्मार्टफोन कंपनी OPPO की जगह एक नया ब्रांड देखने को मिल सकता है

Date : 26-Jul-2019
नई दिल्ली, 26 जुलाई । भारतीय क्रिकेट टीम की ऑफिशियल जर्सी पर ग्लोबल स्मार्टफोन कंपनी OPPO की जगह एक नया ब्रांड देखने को मिल सकता है। उस ब्रांड का नाम Byjus है। यह बेंगलुरू की एजुकेशन टेक्नोलॉजी कंपनी है, जो एक ऑनलाइन ट्यूटोरियल फर्म है। सूत्रों की माने तो OPPO कंपनी अपने स्पॉन्सरशिप राइट्स Byjus को ट्रांसफर कर रही है। इसके लिए OPPO, Byjus और BCCI के बीच एक त्रिपक्षीय समझौता होगा। तीनों पक्ष आज ही इस समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। माना जा रहा है कि 15 सितंबर से होने वाले साउथ अफ्रीका दौरे में इंडियन टीम Byjus ब्रांड वाली जर्सी में दिख सकती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि OPPO ने मार्च 2017 में स्पॉन्सरशिप करार के तहत भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से 5 साल के लिए करीब 1,079 करोड़ रुपये में ये राइट्स लिया था। OPPO ने VIVO की 768 करोड़ रुपए की बोली को पछाड़कर ये स्पॉन्सरशिप जीती थी। समझौते के मुताबिक OPPO प्रति द्विपक्षीय मैच के लिए BCCI को 4.61 करोड़ रुपए और किसी भी ICCइवेंट गेम के लिए 1.56 करोड़ रुपए भुगतान कर रहा था। BCCI के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया क्रिकेट टीम की जर्सी के स्पॉन्सरशिप सौदे के संभावित हैंडओवर पर OPPO और Byjus आपस में बातचीत कर रहे हैं। CoA को इस बारे में जानकारी दे दी गई है कि वो स्पॉन्सरशिप के हस्तांतरण पर आपस में बात कर रहे हैं। BCCI के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि, स्पॉन्सरशिप के किसी भी ट्रांस्फर के लिए इच्छुक पार्टियों को BCCI को इस सौदे से जुड़ी बातचीत के बारे में सूचित करना होगा। इसीलिए OPPO और Byjus ने हमें इस बातचीत के बारे में सूचित किया है। BCCI का स्पॉन्सरशिप के पैसे का नुकसान होने का सवाल ही नहीं उठता, क्योंकि नई कंपनी वही भुगतान करेगी जो पुराना स्पॉन्सर यानि OPPO कर रहा है। अधिकारी ने बताया, BCCI के एग्रीमेंट में एक क्लॉज़ है, जो स्पॉन्सरशिप के ट्रांस्फर की अनुमति देता है। गोपनीयता की वजह से इसकी फाइनेंशियल डीलिंग्स के बारे में बात नहीं की जा सकती है। BCCI के ही एक दूसरे अधिकारी ने बताया कि ऐसा भी हो सकता है कि इस स्पॉन्सरशिप ट्रांस्फर से बोर्ड को पहले से ज्यादा रकम मिल जाए। अधिकारी ने कहा कि,यदि स्पॉन्सरशिप का हस्तांतरण होता है तो BCCI को उसका लाभ भी हो सकता है। दोनों पक्षों को मिलाकर बोर्ड को अतिरिक्त 10 प्रतिशत भुगतान करना होगा और छह महीने का नोटिस भी देना होगा। मुझे लगता है कि दोनों कंपनियां इस बारे में बातचीत कर रही होंगी कि ये अतिरिक्त 10 प्रतिशत का बोझ कौन उठाएगा। Byjus ऑनलाइन ट्यूटोरियल फर्म है, जिसकी स्थापना केरल के उद्यमी Byju Raveendran ने 2011 में की। इंडस्ट्री में इसकी कीमत 38,000 करोड़ रुपये की है। इसकी पैरंट कंपनी थिंक ऐंड लर्न प्राइवेट लिमिटेड है। बता दें कि Byjus शुरू करने के लिए इसे साल 2013 में सीड फंडिंग मिली थी और इसके ग्लोबल इंवेस्टर्स में चान-जकरबर्ग, निकोलस कैटर और होंगवेई चेन शामिल हैं।

Related Topics