Entertainment

Previous123Next

SACRED GAMES 2: पहले सीज़न से कितना अलग है सेक्रेड गेम्स 2?

Date : 18-Aug-2019
क़रीब एक साल से फ़ैन्स को सेक्रेड गेम्स सिरीज़ के नए सीज़न का जो इंतज़ार था, वो अब ख़त्म हो गया है. 15 अगस्त को सेक्रेड गेम्स सिरीज़ का दूसरा सीज़न रिलीज़ हो चुका है. दूसरे सीज़न में आठ एपिसोड हैं. हर एपिसोड क़रीब एक घंटे का है. कुछ फ़ैंस ने एक सिटिंग यानी एक बार में ही पूरा सीज़न देख लिया. सेक्रेड गेम्स सीज़न-2 की कहानी गणेश गायतोंडे के केन्या जाने से शुरू होती है. हर एपिसोड के साथ सेक्रेड गेम्स की कहानी उन 25 दिनों के पूरे होने की तरफ़ बढ़ती है, जिसके बाद गणेश गायतोंडे के कहे शब्दों में सब मर जाएंगे, सिर्फ़ त्रिवेदी बचेगा.
View More...

श्वेता तिवारी की बेटी पलक ने चुप्पी तोड़ी

Date : 13-Aug-2019
मुम्बई 13 अगस्त । एक्ट्रेस श्वेता तिवारी ने अपने पति अभिनव कोहली पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया है। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अभिनव को गिरफ्तार कर लिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अभिनव ने उनकी बेटी पलक के साथ मारपीट की। अब इस मामले पर श्वेता की बेटी पलक का बयान आया है। पलक ने एक इंस्टाग्राम पोस्ट के जरिए अपनी बात कही है। पलक ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट पर लिखा कि घरेलू हिंसा का शिकार उनकी मां नहीं बल्कि वो हुई थीं। अभिनव कोहली ने कभी भी उनसे शारीरिक छेड़छाड़ नहीं की और न ही कभी अनुचित तरीके से छुआ। हालांकि वो उनपर लगातार अनुचित और परेशान करने वाली टिप्पणी किया करता था। पलक ने अपनी मां श्वेता तिवारी के संघर्ष को भी बताया। इसके साथ पलक ने अपनी पोस्ट में अफवाह न फैलाने की अपील की।। palaktiwarii Firstly, i would like to thank everyone who’s reached out to express their concern and support.  Secondly, i would like to address and clarify a few things out of my own rectitude: The media does not have the facts and they never will. I, Palak Tiwari, was on multiple occasions a victim of domestic abuse NOT my mother, except for the day that the complaint was filed he hadn’t hit my mother. As a reader of the news its often easy to forget that you do not know the truth of what goes on behind closed doors or how much fortitude my mother has shown in both her marriages. This is someone’s household you’re writing about, someone’s life you’re discussing. Many of you fortunately haven’t even dealt with something of such heinous proportions, and hence you have no right to comment, discuss or paint someone else’s image through your biased, misinformed views.  It’s beyond disgusting and its time that i stand up for my mother for she is the strongest person i know and since out of all of us I’m the only person who’s witnessed her struggle day in and day out, my opinion is the only one that matters.  Abhinav Kohli has never physically molested me, or touched me inappropriately. Before spreading something of this caliber or even believing it, its imperative you as readers know the veracity of the facts that you’re blindly divulging endlessly. However, he did persistently make inappropriate and disturbing remarks the impact of which is only known to my mother and I, and if any woman from any walk of life were to hear them she would be greatly embarrassed and provoked too. Words which would question the standing dignity of any woman, which you wouldn t expect to hear from any man, especially not your “father”. Seeing our lives through social media, reading about us in the papers can only tell you so much about our struggles, but never enough to comment on them. Today as a proud daughter, I’m here to tell you that my mother is the most respectable individual that I’ve ever come across, the MOST self sufficient, one who’s never required or even had a man provide for her and has always taken the social standing of a man in both the families that we’ve been a part of. अभिनव को दोपहर 1 बजे के आसपास पुलिस स्टेशन लाया गया और श्वेता-पलक की मौजूदगी में करीब 4 घंटे तक उनसे पूछताछ की गई। इसके बाद पुलिस ने श्वेता की शिकायत पर अभिनव के खिलाफ केस दर्ज कर लिय श्वेता तिवारी और अभिनव कोहली ने 2013 में शादी की थी। दोनों के एक बेटा है रेयांश कोहली। श्वेता ने ये शादी पलक की रजामंदी के बाद ही की थी। पलक श्वेता तिवारी और उनके पहले पति राजा चौधरी की बेटी है। राजा चौधरी और श्वेता का तलाक भी घरेलू हिंसा के कारण ही हुआ था।
View More...

श्वेता तिवारी ने अपने दूसरे पति पर भी लगाए घरेलू हिंसा के आरोप

Date : 12-Aug-2019
नई दिल्ली: 12 अगस्त । टीवी एक्ट्रेस श्वेता तिवारी (Shweta Tiwari) ने अपने पति पर घरेलू हिंसा के आरोप लगाए हैं. श्वेता तिवारी के साथ ऐसा दूसरी बार हो रहा है. 2007 में श्वेता तिवारी ने राजा चौधरी से घरेलू हिंसा और मारपीट के कारण ही तलाक लिया था, जिसके बाद उन्होंने 2013 में अभिनव कोहली से शादी की थी. अब एक बार फिर श्वेता तिवारी (Shweta Tiwari) घरेलू हिंसा के शिकार होने की बात कह रही हैं. स्पॉटबॉय की रिपोर्ट के मुताबिक करीब एक साल से श्वेता तिवारी और उनके पति के बीच कई विवाद चल रहे थे, हालांकि एक्ट्रेस ने चुप रहना ही बेहतर समझा. लेकिन हाल ही में हुए झगड़े में अभिनव ने श्वेता की बेटी पलक (Palak) को थप्पड़ मार दिया, जिसके बाद श्वेता तिवारी चुप नहीं रहीं. सीरियल कसौटी जिंदगी के (Kasautii Zindagii Kay) से फेमस हुईं एक्ट्रेस श्वेता तिवारी (Shweta Tiwari) ने पुलिस को बताया कि शराब के नशे में उनके पति यानी अभिनव कोहली ने ये सब किया. देर रात करीब 1 बजे पुलिस अभिनव को पास के पुलिस स्टेशन ले गई और वहां उसे चार घंटे तक रखा. श्वेता तिवारी ने अपने पति के खिलाफ बेटी को अपशब्द कहने का आरोप लगाया. श्वेता तिवारी ने अभिनव पर इल्जाम लगाया कि वो पलक को लेकर भद्दे कमेंट करता था.
View More...

कश्मीरी सेब खरीदने की औकात नहीं है,करने चले हैं कश्मीरी लड़की से शादी, बिदित बाग

Date : 11-Aug-2019
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा लिया गया है । सरकार के इस ऐतिहासिक फैसले को लेकर देशवासियसों ने अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया दी है । कुछ प्रतिक्रिया ऐसी भी थी जिसमें लोग कश्मीरी लड़कियों से शादी करने की बात भी कह रहे हैं । हाल ही में इस मामले पर एक बॉलीवुड एक्ट्रेस ने अपना बयान दिया है ।  ये एक्ट्रेस हैं बिदिता बाग । बिदिता ने ट्वीट कर उन लोगों पर निशाना साधा जो कश्मीरी लड़कियों से शादी करने की बात कह रहे हैं । अब उनका ये ट्वीट वायरल हो रहा है । बिदिता ने लिखा, कश्मीरी सेब खरीदने की औकात नहीं है... करने चले हैं कश्मीरी लड़की से शादी । बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भाजपा विधायक विक्रम सिंह सैनी ने भी कश्मीरी लड़कियों से शादी करने पर बयान दिया था ।  उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा था, अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद कार्यकर्ता काफी उत्साहित हैं, क्योंकि अब वहां की गोरी लड़कियों से शादी कर सकते हैं ।
View More...

कभी माता-पिता ने उन्हें अपनाने से इनकार किया लेकिन आज वो पूरी दुनिया में नाम कमा रही हैं.

Date : 09-Aug-2019
कभी माता-पिता ने उन्हें अपनाने से इनकार किया लेकिन आज वो पूरी दुनिया में नाम कमा रही हैं. नाज़ जोशी एक ट्रांससेक्सुअल महिला हैं जिन्होंने लगातार तीसरी बार Miss World Diversity सौंदर्य प्रतियोगिता जीती है. इस ख़िताब को तीन बार जीतने वालीं वह भारत की पहली ट्रांससेक्सुअल महिला हैं. Miss World Diversity एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की सौंदर्य प्रतियोगिता है, जो इस साल मॉरिशस में आयोजित हुई थी. इसमें हिस्सा लेने के लिए जेंडर, उम्र, नागरिकता या तय फिगर की कोई बाध्यता नहीं होती. दिल्ली की रहने वालीं नाज़ जोशी की ज़िंदगी उपेक्षा, ग़रीबी और अपनी पहचान की तलाश में गुज़री लेकिन फिर भी वो कहीं रुकी नहीं.
View More...

कभी माता-पिता ने उन्हें अपनाने से इनकार किया लेकिन आज वो पूरी दुनिया में नाम कमा रही हैं.

Date : 09-Aug-2019
कभी माता-पिता ने उन्हें अपनाने से इनकार किया लेकिन आज वो पूरी दुनिया में नाम कमा रही हैं. नाज़ जोशी एक ट्रांससेक्सुअल महिला हैं जिन्होंने लगातार तीसरी बार Miss World Diversity सौंदर्य प्रतियोगिता जीती है. इस ख़िताब को तीन बार जीतने वालीं वह भारत की पहली ट्रांससेक्सुअल महिला हैं. Miss World Diversity एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की सौंदर्य प्रतियोगिता है, जो इस साल मॉरिशस में आयोजित हुई थी. इसमें हिस्सा लेने के लिए जेंडर, उम्र, नागरिकता या तय फिगर की कोई बाध्यता नहीं होती. दिल्ली की रहने वालीं नाज़ जोशी की ज़िंदगी उपेक्षा, ग़रीबी और अपनी पहचान की तलाश में गुज़री लेकिन फिर भी वो कहीं रुकी नहीं.
View More...

तलाक़ दे तो रहे हो इताब-ओ-क़हर के साथ मिरा शबाब भी लौटा दो मेरी महर के साथ

Date : 04-Aug-2019
जिस तरह नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी सरकार ने तीन तलाक़ को महिलाओं की आज़ादी का मुद्दा बनाया और संसद में इस पर क़ानून पास कराया, पूरे देश में इस पर एक बहस खड़ी हो गई है. तलाक़ के मुद्दे को हमारे फ़िल्मकार भी अपनी फ़िल्मों में दिखाते रहे हैं. कुछ फ़िल्में तो तलाक़ पर ही पूरी तरह केन्द्रित रहीं. लेकिन दिलचस्प बात यह है कि जिस फ़िल्मकार ने इसे सबसे पहले अपनी फ़िल्म में उठाया वह भी मोदी थे, अपने दौर के जाने-माने फ़िल्मकार सोहराब मोदी. सोहराब मोदी ने सन 1938 में ही तलाक़ नाम से फ़िल्म बना दी थी. सोहराब मोदी ने इस समस्या और इसके परिणामों को उजागर किया. यह फ़िल्म दर्शकों को काफ़ी पसंद आई और बॉक्स ऑफिस पर भी हिट साबित हुई. हालांकि सोहराब मोदी की यह तलाक़ तीन तलाक़ पर यानी मुस्लिम पृष्ठभूमि पर नहीं थी. लेकिन फ़िल्म में तलाक़ और उस समय इससे जुड़े क़ानून के दांव पेच को दिखाया था. यह फ़िल्म तलाक़ में महिलाओं के अधिकार की आवाज़ उठाकर महिला सशक्तीकरण के समर्थन में थी. इसमें उस समय के मशहूर सितारे नसीम बानू, प्रेम अदीब, गजानन जागीरदार और नवीन याज्ञनिक मुख्य भूमिकाओं में थे. मोदी के विख्यात मिनर्वा मूवीटोन बैनर से बनी इस फ़िल्म की कहानी को आनंद कुमार और गजानन जागीरदार ने लिखा था. भारत में ब्रिटिश शासन के दौर में बनी इस फ़िल्म की नायिका रूपा एक राजनेता निरंजन की पत्नी है. लेकिन अपने पति की कई बातों से परेशान होकर वो उससे तलाक़ लेना चाहती है. लेकिन निरंजन तलाक़ नहीं लेना चाहता. फ़िल्म तलाक़ तब रूपा एक पत्रिका आँधी के संपादक की मदद लेती है. वह तलाक़ के क़ानून में कुछ बदलाव दिलवाकर उसके पति से उसे आज़ाद करा देता है. और रूपा एक अन्य व्यक्ति अमरनाथ से शादी कर लेती है. लेकिन बाद में अमरनाथ उसी क़ानून को माध्यम बनाकर रूपा से तलाक़ ले लेता है, जिस क़ानून के सहारे रूपा को अपने पहले पति से तलाक़ मिला था. इस फ़िल्म के बाद तलाक़ नाम से एक और फ़िल्म साल 1958 में भी बनी. निर्माता निर्देशक महेश कौल की इस फ़िल्म में राजेंद्र कुमार नायक थे और कामिनी क़दम, राधाकृष्ण, सज्जन और यशोधरा काटजू के साथ बेबी मलिका अन्य प्रमुख कलाकार थे. इस तलाक़ की कहानी उस समय के सुप्रसिद्द लेखक पंडित मुखराम शर्मा ने लिखी थी. फ़िल्म में दिखाया गया था कि एक स्कूल अध्यापिका इन्दु जब एक कवि और इंजीनियर रवि शंकर के देश भक्ति के गीत एक समारोह में सुनती है, तो वह उससे प्यार कर बैठती है. दोनों शादी कर लेते हैं. इन्दु शादी के बाद अपनी नौकरी छोड़ अपने बेटे आशू के पालन पोषण में जुट जाती है. लेकिन इसी दौरान इन्दु के पिता अपने दामाद रवि से काफ़ी पैसे उधार लेकर जुए में हार जाते हैं. जिसका खामियाजा इन्दु को तलाक़ का सामना करके भुगतना पड़ता है. साथ ही अपने गुजर-बसर के लिए उसे फिर से अपनी पुरानी नौकरी पर लौटने के लिए मजबूर होना पड़ता है. इस फ़िल्म की सफलता के बाद तब कई निर्माताओं ने इस विषय पर फ़िल्म बनाने की योजना बनाई. लेकिन कुछ फ़िल्में पूरी ही नहीं हो पाईं. साथ ही जहां निर्माता जीतेंद्र की फ़िल्म दीदार ए यार में मुस्लिम समाज में निकाह की शर्तों को अच्छे से दिखाया तो जुनून और शमा जैसी फिल्मों में भी मुस्लिम महिलाओं की टीस को बख़ूबी दिखाया. पिछले कुछ बरसों में भी तलाक़ को लेकर दो तीन फ़िल्में बनीं और कुछ सीरियल भी. सीरियल में जहां ऐसा बड़ा प्रयास कुछ बरस पहले सोनी चैनल पर हिना से हुआ था तो हाल ही में प्रसिद्द सीरियल निर्माता धीरज कुमार ने तीन तलाक़ को लेकर ही ज़ी टीवी के लिए एक सीरियल सुभान अल्लाह बनाया. हालांकि साल 1984 में शर्मिला टैगोर, गिरीश कर्नाड, विजेंद्र घाटगे और जासमीन को लेकर बनी एनडी कोठारी की फिल्म डाईवोर्स और साल 2005 में बनी डाईवोर्स-नॉट बिट्वीन हसबेंड एंड वाइफ़ को ज़रा भी सफलता नहीं मिली. इस दूसरी फ़िल्म में जैकी श्राफ, सोनू सूद, तनिष्ठा और मंदिरा बेदी जैसे कलाकार थे. लेकिन यह फ़िल्म ठीक से थिएटर तक भी नहीं पहुँच पायी. बीआर चोपड़ा की फ़िल्म निकाह इस विषय पर तीसरी फ़िल्म आई निकाह निर्माता निर्देशक बीआर चोपड़ा की निकाह तीन तलाक़ को लेकर बनी एक ऐसी फ़िल्म थी, जिसमें मुस्लिम महिलाओं के दर्द के विभिन्न पहलुओं को बहुत बरीक़ी से दिखाया गया था. निकाह फ़िल्म बनाने में चोपड़ा को कई मुश्किलें आईं. शुरू होने से पहले ही कई लोगों ने अदालत का दरवाज़ा तक खटकाया. लेकिन किसी तरह ये फ़िल्म पूरी हुई. निकाह फ़िल्म 24 सितम्बर 1982 को रिलीज़ हुई तो इसे देखने के लिए पहले दिन ही मुंबई सहित देश के कई सिनेमा घरों में लंबी लंबी कतारें लग गईं. हालांकि फ़िल्म प्रदर्शन के दो दिन बाद कुछ मुस्लिम संगठनों ने निकाह को न देखने के लिए मुंबई के कुछ सिनेमा घरों पर पोस्टर भी लगवा दिए थे. लेकिन फ़िल्म की कहानी, संवाद और गीतों ने ऐसी धूम मचाई कि अधिकतर थिएटर्स पर हाउस फुल के बोर्ड लग जाते थे. निकाह की कहानी को लिखा था -अचला नागर ने. इसके लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर के सर्वश्रेष्ठ संवाद लेखिका सहित कई अन्य पुरस्कार भी मिले. साथ ही कई फ़िल्मकार उनसे अपनी फ़िल्में लिखवाने के लिए मचलने लगे. इनमें बाद में चोपड़ा की बागबान और बाबुल भी अचला नागर ने लिखी. साथ ही आख़िर क्यों, ईश्वर, नगीना, निगाहें, नज़राना, आदमी खिलौना है, सैलाब, सदा सुहागन और मेरा पति सिर्फ़ मेरा है जैसी कई फिल्में भी अचला जी ने ही लिखीं. लेकिन जब उन्होंने निकाह लिखी तब वो नई नई थीं. आकाशवाणी मथुरा में काम करती थीं. इसके अलावा उनकी एक पहचान यह थी कि वह महान साहित्यकार अमृतलाल नागर की बेटी हैं. असल में अचला नागर ने निकाह की कहानी माधुरी पत्रिका के लिए लिखी थी. उनकी यह कहानी कैसे निकाह फ़िल्म के रूप में आई यह भी दिलचस्प है. अचला नागर बताती हैं, मैं कुछ न कुछ लिखती रहती थी. साल 1980 में अपने मुंबई प्रवास के दौरान मैं धर्मयुग में गई तो वहीं पर माधुरी के संपादक विनोद तिवारी से मुलाक़ात हुई, उन्होंने कहा कि माधुरी के लिए कोई कहानी लिखिए. माधुरी यूं तो फ़िल्म पत्रिका थी लेकिन विनोद तिवारी ने उसमें साहित्य मंथन स्तंभ में ऐसी कहानियाँ देनी शुरू की थीं जिन पर फ़िल्मकार फ़िल्म बनाना चाहें तो बना सकें. कुछ समय बाद अचला नागर ने तोहफ़ा नाम से एक कहानी लिख माधुरी में दे दी. यहाँ यह भी बता दें कि अचला नागर को अपनी तोहफ़ा कहानी का तीन तलाक़ वाला आइडिया अभिनेता संजय ख़ान और अभिनेत्री ज़ीनत अमान की एक ख़बर से मिला था. अचला बताती हैं, एक दिन एक फ़िल्म पत्रिका में मैंने ख़बर पढ़ी कि संजय ख़ान ने अपनी फ़िल्म अब्दुल्लाह की शूटिंग के दौरान फ़िल्म की नायिका ज़ीनत अमान से शादी करने के बाद उन्हें तलाक़ दे दिया. लेकिन अब वह हलाला की रस्म करके फिर से शादी करना चाहते हैं. अचला नागर ने बताया, मुझे यह ख़बर पल्ले नहीं पड़ी. तब इस ख़बर को समझने के लिए आकाशवाणी के तबला वादक बाबू खाँ से पूछा तो उन्होंने बताया की हलाला क्या है. और दोबारा निकाह करने के लिए किस तरह उस औरत को ज़लालत की ज़िदगी जीने पर मजबूर होना पड़ता है. बस उसी के बाद मेरे दिमाग़ में इस कहानी का जन्म हुआ. बाद में यह निकाह फ़िल्म बनकर सभी के सामने पहुंची. तोहफ़ा नाम की उनकी यह कहानी कभी फ़िल्म बनेगी इसकी कल्पना अचला नागर को दूर दूर तक नहीं थी. माधुरी में यह अक्तूबर 1981 में प्रकाशित हुई. लेकिन उससे पहले अचला नागर ने अपनी कहानी को ख़ुद ही नाटक का रूप देकर आकाशवाणी मथुरा से प्रसारित कर दिया. इसी दौरान जब बीआर चोपड़ा इंसाफ़ का तराजू की शूटिंग में व्यस्त थे, वो एक इंटरव्यू के सिलसिले में उनसे मिलीं. वो उन दिनों वीसीआर आने के कारण टेली फ़िल्म की योजनाओं पर भी काम कर रहे थे. चोपड़ा से मुलाक़ात के दौरान अचला ने तब तोहफ़ा नाटक की पटकथा भी उन्हें दे दी. चोपड़ा को ये कहानी इतनी पसंद आई कि उन्होंने इस पर टेली फ़िल्म की जगह फ़ीचर फ़िल्म बनाने का फैसला ले लिया. चोपड़ा ने इस कहानी पर अपनी लेखकीय टीम के राही मासूम रज़ा और पंडित नरेंद्र शर्मा से कई पहलुओं पर बात की. फ़िल्म का नाम उन्होंने तलाक़, तलाक़ तलाक़ रखने का फैसला किया. लेकिन बाद में इसका नाम निकाह रख दिया गया. पाकिस्तान मूल की सलमा आगा को फ़िल्म की नायिका नीलोफ़र का रोल दिया गया. राज बब्बर को उनके प्रेमी हैदर और दीपक पाराशर को नीलोफ़र के शौहर नवाब वसीम का क़िरदार मिला. हैदराबाद की पृष्ठभूमि पर बनी इस फ़िल्म में दिखाया गया कि ओसमानिया यूनिवर्सिटी में पढ़ते हुए शायर मिजाज़ के हैदर अपने साथ पढ़ रही नीलोफ़र को दिल दे बैठता है जबकि नीलोफ़र की सगाई नवाब ख़ानदान के वसीम से हो चुकी है. वसीम और नीलोफ़र जल्द निकाह कर लेते हैं. हनीमून भी मनाते हैं. लेकिन कुछ दिन बाद हालात बदलने लगते हैं. अपनी बिज़नेस की ज़िम्मेदारियों में वसीम के दिन रात व्यस्त रहने से नीलोफ़र ख़ुद को अकेला महसूस करती है. यहाँ तक जब अपनी शादी की पहली सालगिरह की पार्टी पर भी वसीम नहीं पहुँचता तो नीलोफ़र बिफर उठती है. रात को दोनों के बीच इतना झगड़ा होता है कि वसीम ग़ुस्से में नीलोफ़र को तलाक़ तलाक़ तलाक़ बोल देता है. नीलोफ़र, वसीम का घर छोड़ देती है और इसी दौरान उसकी मुलाक़ात हैदर से होती है जो एक पत्रिका का संपादक है. दोनों जल्द ही करीब आ जाते हैं. उधर वसीम भी फिर से नीलोफ़र से शादी करना चाहता है. वह नीलोफ़र को ख़त लिखकर कहता है कि वह हैदर से तलाक़ लेकर उससे फिर से शादी कर ले. हैदर उस ख़त को पढ़ता है तो समझता है कि नीलोफ़र अब भी अपने पहले पति वसीम से प्यार करती है. यह सोच हैदर, नीलोफ़र के जन्म दिन पर वसीम को अपने यहाँ बुलाकर, उसे जन्मदिन के तोहफ़े के रूप में नीलोफ़र के सामने पेश करता है. यह देख नीलोफ़र ग़ुस्से आगबबूला हो जाती है और कहती है, मैं कोई जायदाद नहीं. मैं जीती जागती औरत हूँ, ज़िंदा लाश नहीं. जिसकी मर्दाना समाज अपनी मर्ज़ी से क़ब्रें बदलता रहे. देखा जाए तो तलाक़ और ख़ासतौर से तीन तलाक़ को लेकर बनी निकाह एक ऐसी सशक्त फ़िल्म थी, जो सभी को दिल की गहराइयों तक झकझोर कर रख देती है. फ़िल्म के कितने ही संवाद औरत के तलाक़ के दर्द और भय को दिखाने के साथ मर्दों के जुल्म ओ सितम को दर्शाते हैं. फ़िल्म का अंत तो ऐसा था जिसे देख महिलाएं रो पड़ती थीं. फ़िल्म की लेखिका अचला नागर कहती हैं, आज भी मेरे कानों में दर्शकों की वे तालियाँ गूँजती हैं, जो वे मेरे संवादों पर बजाते थे. लेकिन यह सच है कि इस फ़िल्म को इतना अच्छा और यादगार बनाने का श्रेय सिर्फ़ बीआर चोपड़ा को जाता है. मेरी कहानी को उन्होंने जो शिखर दिया वो शायद कोई और फ़िल्मकार नहीं दे पाता. जितना मैं अपनी फ़िल्म की सफलता से ख़ुश थी उससे ज़्यादा अब ख़ुश हूँ, जब देश की महिलाओं को तीन तलाक से आज़ादी मिलकर उन्हें अपनी ज़िंदगी इज्ज़त और अपने ढंग से जीने का क़ानूनी हक़ मिला है.
View More...

अर्जुन संग शादी के अफवाहों पर मलाइका ने लगाया फुलस्टॉप

Date : 04-Aug-2019
मलाइका अरोड़ा और अर्जुन कपूर फिल्म इंडस्ट्री की सबसे चर्चित जोड़ी हैं. दोनों सोशल मीडिया से लेकर पार्टियों तक छाए रहते हैं. कपल को अक्सर साथ में स्पॉट किया जाता है. ऐसे में दोनों की शादी की अफवाहें भी सामने आ रही हैं. मगर मलाइका ने हालिया इंटरव्यू में इन खबरों का खंडन किया है. बातचीत के दौरान मलाइका ने कहा, खुशियां दिमाग की मनोदशा पर निर्धारित होती हैं. हां, मैं खुश हूं. क्यों मैं इतनी ज्यादा एक्सप्लिनेशन दूं. हर कोई ऐसी अफवाहों से कभी ना कभी जरूर घिरता है. कोई भी बख्शा नहीं जाता ऐसे अनुमान लगते ही रहते हैं. मलाइका ने कहा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि अभी शादी का कोई प्लान नहीं है. बता दें कि दोनों की पब्लिकअपियरेंस पहले से काफी ज्यादा हो गई है.  अर्जुन कपूर के बर्थडे पर दोनों ने अपने रिलेशनशिप को ऑफिशियल किया और लंबे वक्त से चली आ रही अफवाहों पर फुलस्टॉप लगाया. दोनों इस दौरान यूएसए में छुट्टियां मनाने के लिए भी गए थे. सिर्फ मलाइका ही नहीं पिछले कुछ इंटरव्यूज में अर्जुन कपूर ने भी इस पर सफाई दी है. इंटरव्यू में अर्जुन ने कहा था कि मैं प्रोफेशनल और पर्सनल दोनों फ्रंट पर काफी खुश हूं. मैं हमेशा से काफी खुले विचारों वाला हू मेरा यकीन मानिए मैं आप लोगों को शॉक नहीं करूंगा. अगर कुछ भी बताने लायक जैसी बात होगी तो मैं आप लोगों को भी अपनी इस खुशी में शामिल करूंगा.
View More...

Dia Mirza और Sahil Sangha की शादी टूटी, 11 साल बाद जुदा हुईं राहें

Date : 01-Aug-2019
नई दिल्ली,1अगस्त । बॉलीवुड एक्ट्रेस दीया मिर्जा (Dia Mirza) के एक पोस्ट ने तहलका मचा दिया है। इस पोस्ट में दिया ने ऐलान किया है कि वो अपने पति साहिल सांघा से अलग हो रही हैं। दिया और साहिल की शादी को 11 साल हो चुके हैं। लेकिन एक्ट्रेस अब 11 साल पुराने रिश्ते को तोड़ने जा रही हैं। एक्ट्रेस ने इंस्टाग्राम पर एक लंबा चौड़ा पोस्ट शेयर करते हुए ये बताया है कि ये फैसला दोनों ने मिलकर लिया है। अपने पोस्ट में एक्ट्रेस ने लिखा, 11 साल तक साथ रहने और जिंदगी में हर एक चीज को साथ में जीने के बाद अब हमने आपसी सहमति से अलग होने का फैसला किया है। हम हमेशा दोस्त रहेंगे। आगे भी ऐसे ही एक दूसरे के साथ प्यार और सम्मान के साथ मिलेंगे। जिंदगी में साथ बिताए लम्हें हम दोनों के लिए हमेशा खास रहेंगे। इस प्यार के लिए हम अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के शुक्रिया अदा करते हैं। हम उम्मीद करते हैं की मीडिया हमारे फैसले का सम्मान करेगी और हमें प्राइवेसी देगी। अब इस मामले पर आगे हम कोई बयान नहीं देंगे। थैंक्यू... दिया मिर्जा और साहिल सांघा।  
View More...

Mumbai Rains के बीच Malaika Arora निकली योग करने, 

Date : 30-Jul-2019
दिल्ली, 30 जुलाई । मलाइका अरोड़ा इन दिनों लगातार सुर्खियों में बनी हुई हैं। एक तरफ जहां वे अर्जुन कपूर के साथ रिलेशनशिप को लेकर चर्चा में हैं वहीं वे अपने स्टाइल स्टेटमेंट को लेकर भी खबरों में रहती हैं। वे फिटनेस फ्रीक हैं और यही कारण है कि उनके स्टाइल स्टेटमेंट को उनके फैंस एडमायर करते हैं और उन्हें फॉलो भी करते हैं। हाल ही में मलाइका अरोड़ा की कुछ लेटेस्ट तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें एक बार फिर उनका शानदार फैशन सेंस नजर आया है।  दरअसल मलाइका अरोड़ा हाल ही में योग करने के बाद योग स्टूडियो से बाहर निकलती हुई स्पॉट की गईं।  तस्वीरों में देख सकते हैं कि मलाइका का स्टाइल स्टेटमेंट हमेशा की तरह यूनीक है।  खास बात यह है कि मुंबई में इन दिनों लगातार बारिश हो रही है। मुंबई में बारिश के बीच भी मलाइका योग करने से अपने आपको नहीं रोक सकीं।  तस्वीर में देख सकते हैं कि बारिश से बचती हुईं वे अपनी कार की तरफ बढ़ रही हैं।  मलाइका के अगर स्टाइट स्टेटमेंट की बात करें तो उनके हाथ में एक बोतल है। उन्होंने ब्लैक कलर की ड्रेस पहनी है। साथ ही गॉगल भी लगाया हुआ है।  आपको बता दें कि मलाइका अरोड़ा इन दिनों अर्जुन कपूर के साथ रिलेशनशिप को लेकर खबरों में हैं।  मलाइका सोशल मीडिया पर भी खूब एक्टिव रहती हैं। अपनी प्रोफेशनल व पर्सनल लाइफ से जुड़ी अपडेट्स वे सोशल मीडिया पर शेयर करती रहती हैं। 
View More...
Previous123Next